asliazadi
दमन, दानह, दीव की खबरें

लोकसभा चुनाव 2024 से पहले संघ प्रदेश थ्रीडी भाजपा संगठन में संपूर्ण परिवर्तन जरुरी : दोनों लोकसभा की सीटों पर गहरा सकता है संकट

असली आजादी न्यूज नेटवर्क, दमण 04 जून। लोकसभा 2024 के आम चुनाव को ऐसे तो 9 महीने से भी कम का समय बचा है, लेकिन जानकारों की माने तो जनवरी महीने में अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के बाद मोदी सरकार आम चुनाव के लिए जा सकती है। इस दृष्टि से देखा जाये तो 8 महीने का ही समय बच जाता है। संघ प्रदेश दादरा एवं नगर हवेली और दमण-दीव की बात करें तो इस प्रदेश की दोनों सीटे वर्तमान संगठन जीतने में पूरी तरह असक्षम नजर आ रही है। क्योंकि प्रदेश के भाजपा नेता जनता में अपना जनाधार खो चुके है। जनता की समस्या और विकास जरुरतों को प्रशासन के अधिकारियों तक पहुंचाने के बदले भाजपा संगठन शराब के लाइसेंस, भंगार के धंधे, एनए, सेल परमिशन तथा धन उगाही के धंधे में ही व्यस्त नजर आ रहे है। वर्तमान में तीनों जिलों की जिला पंचायतें, नगरपालिकाएं और ज्यादातर ग्राम पंचायतों में भाजपा का ही शासन है। दमण-दीव लोकसभा सीट पर भी भाजपा के ही सांसद है। सिर्फ दादरा नगर हवेली में स्व. मोहन डेलकर की धर्मपत्नी कला डेलकर शिवसेना की सांसद है। संघ प्रदेश थ्रीडी भारतीय जनता पार्टी के पास एक अच्छा मौका था और अभी भी है कि पिछले साढे छह सालों में केंद्र की मोदी सरकार के नेतृत्व में प्रशासक प्रफुल पटेल ने इस प्रदेश में शिक्षा, स्वास्थ्य, पर्यटन विकास, कानून व्यवस्था एवं सुरक्षा, कनेक्टिविटी सहित अनेक विकास कार्यों को धरातल पर उतार कर इस प्रदेश को मॉडल प्रदेश बनाया है जिसका पूरा श्रेय भारतीय जनता पार्टी ले सकती थी। लेकिन भाजपा इन सभी मुद्दों पर हाल के दिनों में मौन नजर आ रही है। जानकारों की माने तो संघ प्रदेश थ्रीडी भाजपा के पदाधिकारी अपने-अपने निजी कामों और निजी स्वार्थ में इतने व्यस्त है कि उन्हें इन सब उपलब्धियों से सरोकार ही नहीं है। प्रशासन के अधिकारी तीनों जिलों में जनता के लिए प्रशासन आपके द्वार के माध्यम से जनता से जुडे हुए छोटे-बडे कामों को उनके गांव तक जाकर पूरा कर रहे है। ऐसे में भाजपा पदाधिकारियों को सक्रिय होकर ऐसे शिविरों में सक्रिय भूमिका निभाकर जनता के बीच अपना जनाधार बढाना चाहिए था, लेकिन यहां भी भाजपा पदाधिकारी पूरी तरह असफल दिख रहे है। संघ प्रदेश दादरा एवं नगर हवेली और दमण-दीव की आबादी 8 लाख से ज्यादा की है। जिसमें से लगभग 4-5 लाख लोग सोशल मीडिया पर एक्टिव है, फिर भी संघ प्रदेश थ्रीडी भाजपा की सोशल मीडिया पोस्टों को 100 लाइक भी नहीं मिलते है, जो भाजपा के मनोमंथन का विषय है। क्योंकि 90 प्रतिशत युवा सोशल मीडिया पर है। अगर वे भी भाजपा से दूरी बनाये हुए है इसका मतलब संघ प्रदेश थ्रीडी में वर्तमान भाजपा संगठन युवाओं को अपने साथ जोडे रखने में नाकाम रहा है। प्रशासनिक गलियारों में चल रही चर्चा के मुताबिक, भाजपा के नेता ज्यादातर अपने निजी कामों के लिए ही सरकारी कार्यालय में आते है। यहां बताना जरुरी है कि 2024 का लोकसभा चुनाव मोदी-शाह की जोडी के लिए काफी महत्वपूर्ण है। पार्टी इस बार लोकसभा की एक-एक सीटों पर फोकस कर उसे जीतने का पूरा प्रयास करेगी। ऐसे में संघ प्रदेश थ्रीडी की दोनों सीटों को वर्तमान भाजपा संगठन जीतने की स्थिति में नजर नहीं आ रहा है। चर्चा यह भी है कि दादरा नगर हवेली की तरह दमण-दीव लोकसभा सीट पर भी संघ प्रदेश थ्रीडी भाजपा नये प्रयोग करने की तैयारी कर रही है। ऐसे में यह प्रयोग भी दादरा नगर हवेली की तरह दमण-दीव में भाजपा के लिए नुकसानदेह हो सकता है। कुल मिलाकर देखे तो संघ प्रदेश थ्रीडी का वर्तमान भाजपा संगठन में संपूर्ण परिवर्तन करना जरुरी है, अन्यथा लोकसभा की दोनों सीटों से संघ प्रदेश थ्रीडी भाजपा को हाथ धोना पड सकता है। खैर संघ प्रदेश थ्रीडी भाजपा लोकसभा की दोनों सीटों को जीतने के लिए 2024 से पहले संगठन में किस तरह का बदलाव करती है यह तो आने वाला वक्त ही बतायेगा।

Related posts

दमण मंे पूर्व सांसद स्व. डाह्याभाई पटेल की स्मृति में भागवत कथा का हुआ शुभारंभ

Vijay Bhatt

अयोध्या के राम मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा पर प्रशासक प्रफुल पटेल ने कचीगाम के कंठेश्वर मंदिर में की पूजा-अर्चना

Vijay Bhatt

पाकिस्तान की जेल से रिहा हुए 200 भारतीय मछुआरे: 14 मछुआरे दीव के भी है शामिल

Vijay Bhatt

Leave a Comment