asliazadi
दमन, दानह, दीव की खबरें

संघ प्रदेश थ्रीडी भाजपा प्रभारी पद से पूर्णेश मोदी को हटाया गया

असली आजादी न्यूज नेटवर्क, दमण 05 जुलाई। लोकसभा चुनाव में भाजपा की सबसे सुरक्षित दमण-दीव सीट पर हार पर पार्टी हाईकमान का एक्शन शुरू हो गया है। सबसे पहले संघ प्रदेश थ्रीडी के भाजपा प्रभारी पूर्णेश मोदी पर गाज गिरी है। भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने पूर्णेश मोदी को संघ प्रदेश दादरा एवं नगर हवेली और दमण-दीव भाजपा प्रभारी के पद से हटाकर उनके स्थान पर सहप्रभारी दुष्यंत पटेल को प्रभारी नियुक्त किया है। सिर्फ 8-9 महीने के छोटे कार्यकाल के बाद भाजपा प्रभारी के रुप में पूर्णेश मोदी की अचानक विदाई ने चर्चा का बाजार गर्म कर दिया है। संघ प्रदेश में चल रही चर्चा के मुताबिक, दमण-दीव लोकसभा सीट पर भाजपा की हार ही सिर्फ भाजपा प्रभारी पूर्णेश मोदी की विदाई का कारण नहीं है। पूर्णेश मोदी पर प्रदेश संगठन में गुटबाजी को हवा देने के भी आरोप लगते रहे है। पार्टी सूत्रों में चल रही चर्चा के मुताबिक, लोकसभा चुनाव के दौरान और चुनाव परिणाम के बाद भी पूर्णेश मोदी ने गुजरात भाजपा के प्रमुख सी. आर. पाटील के नजदिक माने जाने वाले वफादार पार्टी नेताओं को साइड लाइन करने और उन पर पार्टी से गद्दारी का लेबल लगाकर उन्हें पार्टी से सस्पेंड कराने के प्रयास भी जारी रखे थे। पार्टी फंड के दुरुपयोग में भी उनकी भूमिका सवालों के घेरे में है। ऐसे कई कारण है जिसके चलते पार्टी हाईकमान भाजपा प्रभारी से नाराज चल रही थी। यहां बताना जरुरी है कि दमण-दीव लोकसभा सीट पर 2009, 2014 और 2019 में भाजपा ने जीत हासिल कर हैट्रीक बनाई थी। 2024 के चुनाव में भाजपा प्रभारी पूर्णेश मोदी और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दीपेश टंडेल एंड मंडली ने भाजपा की सुरक्षित सीट को निर्दलीय उम्मीदवार की थाली में परोसकर दिये जाने का भी आरोप कार्यकर्ता लगा रहे है। क्योंकि पूरे चुनाव में बंद दरवाजों के बीच बैठके ही चलती रही। भाजपा प्रभारी के रूप में पूर्णेश मोदी का व्यवहार खासकर दमण के स्थानीय नेताओं के साथ उद्धत रहा था। बात-बात में भाजपा प्रभारी पूर्णेश मोदी सरपंचों, जिला पंचायत सदस्यों और काउंसिलरों को स्थानीय स्वराज संस्था में पार्टी का टिकट नहीं देने की चेतावनी देते रहते थे। लोकसभा चुनाव के दौरान दमण के जनाधार वाले नेताओं को दरकिनार करके कुछ गिने चुने लोगों के साथ जो खेल पूर्णेश मोदी ने खेला उसके कारण दमण-दीव जैसी भाजपा के लिए सबसे सुरक्षित सीट पर पार्टी की हार हुई और संगठन भी बिखर गया।

Related posts

प्रशासक प्रफुल पटेल पहुंचे लक्षद्वीप: विकास परियोजनाओं को आगे बढाने का शुरु किया अभियान

Vijay Bhatt

भारत देश को चांद तक पहुंचाने वाले इसरो के चेयरमैन डॉ. एस. सोमनाथ बने दीव के मेहमान

Vijay Bhatt

दादरा नगर हवेली में धीरे-धीरे महामारी का रूप लेता जा रहा है डेंगू

Vijay Bhatt

Leave a Comment