asliazadi
दमन, दानह, दीव की खबरें

अल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड की ए टू जेड एनएस प्लस न्यूट्रास्यूटिकल टैबलेट के सैंपल मिसब्रांडेड होने की आई रिपोर्ट

– अल्केम लैबोरेटरीज फिर विवादों में : गुजरात सरकार ने ठोका जुर्माना
– गुजरात राज्य के राजकोट जिले के एडीएम चेतन गांधी ने अल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड और उसके ट्रेडर्सों पर 3-3 लाख रुपये का जुर्माना ठोका
– अल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड का 1000 करोड रुपये की टैक्स चोरी में भी आया था नाम : जांच है जारी
असली आजादी न्यूज नेटवर्क, दमण 25 जून। दमण से सिक्किम तक फैली अल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड अपने कार्यकलापों के चलते फिर विवादों में घिर गई है। इस बार गुजरात सरकार ने अल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड और उसके ट्रेडर्सों पर 9 लाख रुपये का जुर्माना ठोका है। प्राप्त जानकारी के अनुसार गुजरात सरकार अपने राज्य के नागरिकों के विशाल हित में खान-पान एवं आरोग्य से जुडी चीज वस्तुओं की समय-समय पर सैंपल के जरिये जांच कराती है। इसी क्रम में गुजरात के राजकोट जिले में फूड एवं ड्रग्स विभाग द्वारा अपने जिले में से खान-पान एवं दवाईयों के सैंपल लिए गए थे। जिसमें अल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड की ए टू जेड एनएस प्लस न्यूट्रास्यूटिकल टैबलेट के 15 नंग बॉक्स के सैंपल भी इकट्ठा किये गये थे। सरकारी लैबोरेटरीज में अल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड की दवाई ए टू जेड एनएस प्लस न्यूट्रास्यूटिकल टैबलेट के सैंपल मिसब्रांडेड होने की रिपोर्ट आई। राजकोट के एडीएम के समक्ष यह मामला सुनवाई के लिए आया। उन्होंने अल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड (उत्पादक) हेड ऑफिस महाराष्ट्र, नरेन्द्र अमृतलाल पंचाल (नोमोनी एवं हॉलसेलर) तथा रविन्द्र चाकीलम (उत्पादक सिक्किम) पर 3-3 लाख रुपये का जुर्माना ठोका है। बताया जाता है कि राजकोट जिला प्रशासन की इस कार्रवाई में अल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड के अलावा मैक्स न्यूट्रास्यूटिकल कंपनी पर भी गाज गिरी है। यहां बताना जरुरी है कि सितंबर 2023 में इनकम टैक्स विभाग ने अल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड पर छापेमारी की थी। दमण, सिक्किम और महाराष्ट्र सहित के स्थानों पर ऑफिस एवं परिसरों में हुई छापेमारी में अल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड के बोगस क्लैम का मामला सामने आया था। जो 1000 करोड रुपये का था। इनकम टैक्स विभाग ने अपनी जांच में पाया था कि अल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड डॉक्टरों और मेडिकल प्रैक्टिशनर्स को पैसा देकर उन्हें प्रिक्रिरप्शन में अपनी दवा लिखने के लिए कहती थी। जिसके बदले कंपनी ने सैकडों करोड रुपयों का डॉक्टरों और मेडिकल प्रैक्टिशनर्स को भुगतान भी किया था। इसी भुगतान को कंपनी खर्च दिखाकर इनकम टैक्स विभाग को ठेगा दिखाने का प्रयास अल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड द्वारा किया गया था। आज भी इस मामले की जांच चल रही है। 2004-2005 में भी अल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड ने करोडों रुपये की दवाओं को सैंपल दवा के नाम पर बेचकर करोडों रुपये की एक्साइज ड्यूटी की गडबडी की थी। हालांकि उस वक्त यूपीए सरकार में कंपनी प्रबंधन की अच्छी पहुंच के चलते मामला दब गया था। पिछले साल भी इनकम टैक्स के छापे के बाद लोगों में यह चर्चा थी कि दमण स्थित कंपनी प्रबंधन के लोग खुलेआम कहते थे कि हमने सत्ताधारी पार्टी को करोडों रुपये का इलेक्ट्रोल बोंड के जरिए दान दिया है और भी बहुत कुछ किया है इसलिए हमारा कोई कुछ नहीं बिगाड सकता। खैर आने वाला समय ही बतायेगा कि दूध का दूध और पानी का पानी होता है या फिर मामला पूर्व की तरह दब जाता है।

Related posts

प्रशासक प्रफुल पटेल के मार्गदर्शन में दमण कलेक्ट्रेट में मनाया गया राष्ट्रीय बालिका दिवस

Vijay Bhatt

निक्षय-निकुष्ठ मित्रों द्वारा टीबी एवं लेप्रोसी के मरीजों को पोषक आहार का वितरण

Vijay Bhatt

देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से प्रशासक प्रफुल पटेल ने की शुभेच्छा मुलाकात

Vijay Bhatt

Leave a Comment