asliazadi
दमन, दानह, दीव की खबरें

दमण समुद्र किनारे प्रोटेक्शन वॉल की तकनीक से प्रशासक प्रफुल पटेल लक्षद्वीप की राजधानी कवरत्ती, अगत्ती एयरपोर्ट और अन्य द्वीपों को बचा सकते है?

– अरबी समुद्र के तट पर स्थित दमण में प्रशासक प्रफुल पटेल ने आधुनिक तकनीक से समुद्र से सटकर प्रोटेक्शन वॉल और मरीन लाइंस रोड तैयार कर दमण को समुद्री लहरों से कर दिया है सुरक्षित – डिपार्टमेंट ऑफ आर्टिटेक्चर एंड रीजनल प्लानिंग, डिपार्टमेंट ऑफ ओशन इंजीनियरिंग एंड नेवल आर्किटेक्चर, आईआईटी खडगपुर और भारत सरकार के डिपार्टमेंट ऑफ साइंड एंड टेक्नोलॉजी के शोध में लक्षद्वीप की 60 प्रतिशत भूमि समुद्र में समा जायेंगी
असली आजादी न्यूज नेटवर्क, दमण 15 जुलाई। दुनिया के सबसे खूबसूरत द्वीपों के रुप में पहचान बनाने वाले लक्षद्वीप पर समुद्र में डूबने के खतरे की अटकलों के बीच लक्षद्वीप को बचाने की दिशा में पिछले एक महीने से पूरे देश में चर्चाए चल रही है। ऐसे में प्रशासक प्रफुल पटेल द्वारा अरबी समुद्र के किनारे बसे दमण में समुद्र किनारे आधुनिक तकनीक से बनाई गयी प्रोटेक्शन वॉल की तर्ज पर लक्षद्वीप में भी इसी तकनीक से प्रोटेक्शन वॉल बनाकर लक्षद्वीप को समुद्र की गर्क में डूबने से बचाया जा सकता है? ऐसा सवाल भी जानकारों के मन में उठ रहा है। शायद ऐसा सवाल उठना भी लाजमी है। क्योंकि किसी ने नहीं सोचा था कि अरबी समुद्र किनारे इतनी मजबूत और सक्षम प्रोटेक्शन वॉल का निर्माण कभी कोई शासक कर पायेगा। हर दो-चार साल में समुद्र की तेज उठती लहरों से दमण के किनारों को बचाने के लिए प्रोटेक्शन वॉलें बनती थी और समुद्र की तेज थपेडों में समुद्र में समा जाती थी। साथ में करोडों रुपये भी पानी में डूब जाते थे। लेकिन अगस्त 2016 में प्रशासक के रुप में पदभार संभालने के बाद प्रफुल पटेल ने सबसे पहला काम जंपोर से लेकर देवका तक अरबी समुद्र की तेज लहरों से दमण को बचाने के लिए अति आधुनिक तकनीक का उपयोग करवाकर अभेद किले जैसी प्रोटेक्शन वॉल बनाने का काम शुरु करवाया। साथ ही साथ मरीन लाइंस रोड भी बनना शुरु हुआ। फिलहाल नानी दमण की ओर मजबूत प्रोटेक्शन वॉल और मरीन लाइंस रोड का काम जारी है। अब बात करते है दमण से कई किलोमीटर दूर लक्षद्वीप की जो धीरे-धीरे अनचाहे समुद्र में समाने की ओर आगे बढ रहा है। डिपार्टमेंट ऑफ आर्टिटेक्चर एंड रीजनल प्लानिंग, डिपार्टमेंट ऑफ ओशन इंजीनियरिंग एंड नेवल आर्किटेक्चर, आईआईटी खडगपुर और भारत सरकार के डिपार्टमेंट ऑफ साइंड एंड टेक्नोलॉजी के शोध में लक्षद्वीप की 60 प्रतिशत भूमि समुद्र में समा जायेंगी। अगर लक्षद्वीप को समुद्र में डूबने से बचाने की सोच आती है तो लोगों की जुबान पर मोटी दमण में बन चुकी और नानी दमण समुद्र किनारे बन रही प्रोटेक्शन वॉल का नाम आता है। प्रशासक प्रफुल पटेल दमण की तकनीक का उपयोग लक्षद्वीप में करके छोटे-छोटे द्वीपों को चारों तरफ घूमती हुई ऐसी ही प्रोटेक्शन वॉल तैयार करके दे देगें तो कई दशकों तक लक्षद्वीप को समुद्र में समाने से बचाया जा सकता है। हालांकि दमण और लक्षद्वीप की भौगोलिक परिस्थिति बिल्कुल उलट है। दमण के समुद्र किनारे पहुंचने के लिए सडक का रास्ता है। जबकि लक्षद्वीप समुद्र के भीतर कई किलोमीटर अंदर स्थित है। इसलिए दमण जैसी आधुनिक तकनीक वाले संसाधनों को वहां पहुंचाना काफी चुनौती भरा कार्य है। लेकिन नामुमकिन को मुमकिन करने का ही दूसरा नाम प्रफुल पटेल है। ऐसे में देश के सबसे खूबसूरत द्वीपों वाले केन्द्रशासित प्रदेश लक्षद्वीप और वहां रह रही हजारों की आबादी के अस्तित्व को बचाने के लिए प्रशासक प्रफुल पटेल पहल करे ऐसी लोगों में भावनाएं है।

Related posts

गृहमंत्री अमित शाह, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, प्रशासक प्रफुल पटेल सहित केन्द्रीय नेताओं ने सांसद लालू पटेल को मोबाइल से दी जन्मदिन की बधाई: संघ प्रदेश थ्रीडी के उद्योगजगत, राजनेताओं और आमजनता ने भी दी शुभकामनाएं

Vijay Bhatt

2 अगस्त को दादरा नगर हवेली मुक्ति दिवस और 15 अगस्त को भारत का स्वतंत्रता दिवस मनाने पर हुई चर्चा-विचारणा

Vijay Bhatt

संघ प्रदेश के निजी अस्पतालों में भी कोरोना के इलाज को मंजूरी: रेमडेसिवीर इंजेक्शन और ऑक्सीजन मुफ्त देगा प्रशासन

Vijay Bhatt

Leave a Comment